क्रोध के दो मिनट और हृदय परिवर्तन | क्रोध को काबू में रखे

एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही । पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया । परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और वह धनी सेठ बन गया । सत्रह वर्ष धन कमाने में बीत गए … Read more

क्या है जीवन ?? क्या आपने कभी अंतरावलोकन किया कि जीवन क्या है!

मुझे लगता है आपने कभी चिंतन और अंतरावलोकन की जहमत नहीं ली होगी कि जीवन क्या है? और हममे कुछ लोगों ने जहमत ली भी होगी तो आपकी चिंतन एक बिंदु पर आकर संभवतः रूक सी गयी होगी और फिर दुबारा आपने कोई कोशिश ही नहीं की। आइए एक चिन्तक की दृष्टि से एक बार … Read more

ब्यस्त रहो परन्तु हर दिन जियो- समय नहीं खरीद सकते

एक गिलहरी रोज अपने काम पर समय से आती थी और अपना काम पूरी मेहनत और ईमानदारी से करती थी। गिलहरी जरुरत से ज्यादा काम कर के भी खूब खुश थी। क्यों कि उसके मालिक, जंगल के राजा शेर ने उसे दस बोरी अखरोट देने का वादा कर रखा था। गिलहरी काम करते करते थक … Read more

वो पछतावे जिसे ब्रोनी वेयर ने ज्यादातर मरणासन्न लोगों में पाया

आस्ट्रेलिया की ब्रोनी वेयर (Bronnie Ware) कई वर्षों तक कोई meaningful काम तलाशती रहीं, लेकिन कोई शैक्षणिक योग्यता एवं अनुभव न होने के कारण बात नहीं बनी। फिर उन्होंने एक हॉस्पिटल की Palliative Care Unit में काम करना शुरू किया। यह वो Unit होती है जिसमें Terminally ill या last stage वाले मरीजों को admit … Read more