आस्था एवं प्रकृति का महापर्व छठ: एक दर्शन

जब विश्व की सबसे प्राचीन सभ्यता की स्त्रियां अपने सम्पूर्ण वैभव के साथ सज-धज कर अपने आँचल में फल ले कर निकलती हैं तो लगता है जैसे संस्कृति स्वयं समय को चुनौती देती हुई कह रही हो, “देखो! तुम्हारे असँख्य झंझावातों को सहन करने के बाद भी हमारा वैभव कम नहीं हुआ है, हम सनातन … Read more

झारखंड में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की भूमिका।Jharkhand Aapda Prabandhan Pradhikar ki Bhumika

आपदा या अंग्रेजी में डिजास्टर (disaster) कोई ऐसा प्रकोप हो सकता है जो एक साथ विशाल जनसँख्या को प्रभावित करता हो। इस दृष्टिकोण से जान माल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के सरकारों की जिम्मेदारियां बढ़ जाती है। आपदा प्रबंधन प्राधिकार का गठन इसी उद्देश्य से किया जाता है। अमूमन राज्यों के मुख्यमंत्री या फिर राष्ट्रीय … Read more

Research Papers With Women in Centre| नारी को केंद्र में रखकर शोध

1) डॉ. नवले रमा: मृदुला गर्ग के  कथा साहित्य में नारी:  विकास प्रकाशन, कानपुर, 2015 2) डॉक्टर पांडे अनु : मृदुला गर्ग के कथा साहित्य में पारिवारिक एवं सामाजिक जीवन:  उत्कर्ष पब्लिशर्स एंड डिसट्रीब्यूटर्स, कानपुर यूपी, 2017 3) शर्मा आरती:  मृदुला गर्ग के उपन्यासों का समाजशास्त्रीय अध्ययन: शोध ग्रंथ। 4) डॉ. दीप्ति एस. : मृदुला … Read more

Mrinal Pande Works| मृणाल पांडे की रचनाएँ

पांडेय मृणाल: अपनी गवाही(उपन्यास), राधाकृष्ण प्रकाशन, 2003, नई दिल्लीपांडे मृणाल: भटकते हुए रास्ते(उपन्यास), राधाकृष्ण प्रकाशन 2003, नई दिल्लीपांडे मृणाल: देवी(उपन्यास), राधाकृष्ण प्रकाशन, 2007, नई दिल्लीपांडे मृणाल: पटरंगपुर(उपन्यास) , राधाकृष्ण प्रकाशन,2010 ई, नई दिल्लीपांडे मृणाल: हमको दियो परदेश(उपन्यास), राधाकृष्ण प्रकाशन, 2001ई, नई दिल्लीपांडे मृणाल:  विरुद्ध (उपन्यास), राधाकृष्ण प्रकाशन, 2013, नई दिल्ली पांडे मृणाल: यानी कि एक … Read more

List of Works by Mridula Garg| मृदुला गर्ग की रचनाएँ

गर्ग मृदुला: उसके हिस्से की धूप(उपन्यास),राजकमल प्रकाशन: 1975, दिल्लीगर्ग मृदुला: कठगुलाब (उपन्यास), भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशन: 2013, दिल्लीगर्ग मृदुला:  मिलजुल मन (उपन्यास), सामयिक प्रकाशन 2009, नई दिल्लीगर्ग मृदुला:  चित्तकोबरा (उपन्यास),  नेशनल पब्लिशिंग हाउस,1979, नई दिल्ली गर्ग मृदुला: कितनी कैदें (कहानी संग्रह), इंद्रप्रस्थ प्रकाशन, 1975, दिल्लीगर्ग मृदुला: कर लेंगे सब हज़म (व्यंग्य लेख संग्रह), 2007, सामयिक प्रकाशन, … Read more